Ghum hai kisi ka pyar ma || 10 December Episode Story & Facts

दोस्तों आज इसका माल के आर्टिकल में आपको पढ़ने को मिलेगा Ghum Hai Kisi Ka Pyar Mai के एपिसोड में क्या होगा वैसे तो आप सब जानते ही हैं कि गुम है किसी के प्यार के एपिसोड में क्या चल रहा है अगर आप जानना चाहते हैं आगे के एपिसोड में क्या होगा तो आप हमारी वेबसाइट को विजिट करते रहिए और टेलीग्राम चैनल को भी ज्वाइन कर लीजिए टाइम पर अपडेट पाने के लिए ताकि आपको पता लगता रहेगा मैं किसी के प्यार में क्या चल रहा है तो आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़िए जानने के लिए गुम है किसी के प्यार में क्या होगा।

 

 

Ghum hai kisi ka pyar mai full episode

 

 

विराट मानवी सोचता है कि फिर सदा ने लैंडमाइन कहां पर बिछाई होगी वह इतना बेवकूफ तो नहीं है जब बुलेट प्रूफ गाड़ी पर गोलियों से हमला करें तो वह अटैक कैसे करेगा फिर आप और दूसरी तरफ देखेंगे सदा बोलता है कि मैं अटैक कैसे करूंगा यह बहुत उनको खाए जा रही होगी फिर वहां पर एक आदमी आता है और कहता है कि यह लो सदा भाव वह आदमी एक बक्से में से बॉक्स निकालता है।

 

और सदा को देता है और कहता है की चिंता मत करिए भाव इसमें इतना एक्सप्लोसिव है ना वह मिस्टर तो क्या उसकी सुरक्षा में तैनात साले पुलिस वाले और गार्ड सबके चेहरे उड़ जाएगी वह सदा बोलता है अरे नहीं ना किया खून अपना भाई या दुश्मन का किसी भी सूरत में हमें खुश नहीं होना चाहिए हमें इसलिए कला है क्योंकि यह करना हमारे लिए जरूरी है।

 

यही फर्क है बागी और आतंकवादियों में बागी अपनी मकसद के लिए लोगों को मारता है और आतंकवादियों का मकसद ही होता है लोगों को मारना फिर वह आदमी बोलता है इतने से काम हो जाएगा भाव फिर देखेगा अब दूसरा आदमी बोलता है कि हमने सुना है मिनिस्टर ने अपने बेस्ट ऑफिसर को भेजा है सदा बोलता है कि कोई भी हो हमें क्या हमारे मिशन के रास्ते में जो भी आएगा उसको पता लग जाएगा कि हमारी काबिलियत क्या है।

 

हम किसी भी बेगुना को नहीं मारेंगे लेकिन हमारे मकसद के रास्ते में जो अभी आएगा उषा में छोड़े गए भी नहीं लेकिन सदाभाऊ यह लगाना किधर है सदा बोलता है कि किसी ऐसी जगह जहां पुलिस ने कभी सोचा भी नहीं होगा फिर वहां पर एक लड़की आती है और कहती है कि सदा वह लड़की सोती होती है सदा खुश हो जाता है श्रुति को देखकर सदा पूछता है कि तुम यहां पर क्या कर रही हो मैंने तुम्हें कितनी बार बोला है।

 

इस हालत में तुम्हें आराम करना चाहिए ठीक से बैठ जाओ कुर्सी पर आराम से कितनी बार बोला इस हालात में सब चीज से दूर रहो क्यों आई हो या तुम तबीयत तो ठीक है ना तुम्हारी मेरी तबीयत बिल्कुल ठीक है कल रात तुम कैंपर नहीं आए थे ना तो थोड़ी सी चिंता हो रही थी इसलिए आ गई मैं कौन सा पहली बार कहीं रात को बाहर गया हूं सदा शिव जी से कहता है तुम को तो पता ही है।

 

हमारा मिशन यह कितना जरूरी है इसी के सिलसिले में इधर-उधर जाना पड़ता है श्रुति बोलती है जानती हूं और तब से जानती हूं जब से तुम बाबा के स्टूडेंट थे बाबा के सिद्धांत और विचारों को आगे ले गए हो तुम पापा से ज्यादा समझदार थे तुम तुम्हारे विचार और सिद्धांत को देखकर ही मैंने मन बना लिया था मैं शादी तो तुमसे ही करूंगी जिस दिन मैंने तुम्हारे साथ छोड़ा था।

 

उस दिन के बाद से मैं बाबा से कभी नहीं मिली लेकिन तुम्हारे सिद्धांत और विशाल और जस्टिस के लिए लड़ाई आज भी वैसे ही है और इसीलिए शायद मुझे बाबा की कभी कमी महसूस नहीं होती सदा बोलता है।

 

कि तुम जानती हो जिस दिन से तुम मेरी जिंदगी में आई हो उस दिन से सब कुछ अच्छा सा सोच हो गया है श्रुति बोलती है पर अब सब कुछ अलग अलग सा लगता है पहले मैं डरती नहीं थी अब मैं डरने लगी हूं तुम्हारे लिए खुद के लिए इस बच्चे के लिए सदा बोलता है कि हमारे बच्चे के लिए सूती बोलती हैं

 

आगे के एपिसोड में क्या होगा जानने के लिए आप हमारे वेबसाइट को विजिट कीजिए और टेलीग्राम की चैनल को भी ज्वाइन कर लीजिए टाइम पर अपडेट पाने के लिए और हमारे आर्टिकल को पढ़ते रहिए और लेडीस अपडेट पाते रहेगी।

 

Thank you

Leave a Comment